ग्रुप कैप्टन की अंतिम विदाई भोपाल में होगी, कल आएगा जवान की पार्थिव देह, बच्चों के चहेते थे वरुण, रिटायरमेंट के बाद खेती करने का था सपना।

Reading Time: 2 minutes

तमिलनाडु के कन्नूर में 8 दिसंबर को CDS जनरल बिपिन रावत के हेलिकॉप्टर हादसे के इकलौते घायल ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का बुधवार को निधन हो गया। वरुण पिछले 7 दिन से बेंगलुरु के अस्पताल में जिंदगी के लिए संघर्ष कर रहे थे।

भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि शहीद ग्रुप कैप्टन का अंतिम संस्कार शुक्रवार को भोपाल में होगा। उनकी पार्थिव देह गुरुवार दोपहर 2:30 बजे सेना के विमान से भोपाल पहुंच जाएगी। एयरपोर्ट रोड सनसिटी कॉलोनी में श्रद्धांजलि कार्यक्रम रखा जाएगा। शुक्रवार को सुबह 11:00 बजे भदभदा विश्राम घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए उनके गृह जिले देवरिया (उत्तर प्रदेश) से भी परिवार के लोग भोपाल के लिए रवाना हो गए हैं।

टि्टयों को भी देश के लिए समर्पित करते थे वरुण
भोपाल में वरुण के पड़ोसी अनिल मूलचंदानी ने बताया कि वरुण को जब भी छुट्‌टी मिलती थी, वे भोपाल आते थे। भोपाल शहर उन्हें काफी पसंद था। कॉलोनी में जब टहलते थे, तब बच्चों से लेकर बड़ों तक से बात करते थे। वे बच्चों को योद्धाओं की कहानियां बताते थे। बच्चे फिर ये कहानियां हमें बताते थे। वरुण सिंह हमेशा बच्चों में साहस भरते थे। वे छुटि्टयों के दिनों को भी देश के लिए समर्पित करते थे। लड़कियों को भी प्रोत्साहित करते थे। वे कहते थे कि लड़कियां किसी से कम नहीं हैं।

विश्वास नहीं रहा कि वरुण अब नहीं रहे
वरुण के पड़ोस में रहने वाले कर्नल महेंद्र त्यागी ने कहा- वरुण सिंह के जाने से हम सभी शोक में हैं। वे बड़े पराक्रमी थे, लेकिन हमें छोड़कर चले गए। वरुण के पिता मेरे अच्छे दोस्त हैं। वरुण के बारे में कुछ दिन पहले ही उनसे बात हुई थी। उन्होंने कहा था कि अभी बेटा अच्छा है। आज वरुण के निधन की दुखद खबर मिली है। हमें विश्वास नहीं हो रहा है कि वरुण अब हमारे बीच नहीं रहे।

भाई नौसेना में तैनात
करीब 20 साल पहले वरुण सिंह का परिवार भोपाल शिफ्ट हो गया था। सन सिटी कॉलोनी में उनके पिता केपी सिंह और मां उमा सिंह रहते हैं। वहीं, वरुण सिंह अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ तमिलनाडु के वेलिंगटन में रहते थे। उनके छोटे भाई तनुज नौसेना में लेफ्टिनेंट कमांडर हैं, उनकी पोस्टिंग मुंबई में है। वर्तमान में मां उमा सिंह छोटे भाई के साथ रह रही हैं। मां निजी स्कूल में टीचर थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related

प्रयागराज हिंसा के मास्टरमाइंड जावेद अहमद के घर पर चल रहे बुलडोजर

Reading Time: < 1 minute प्रयागराज: उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में बीते दिनों भड़की हिंसा मामले में कार्रवाई जारी है. पुलिस ने पूरे मामले में कार्रवाई करते हुए 95 नामजद और 5000 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. वहीं, हिंसा मामले में वेलफेर पार्टी ऑफ इंडिया के प्रदेश महासचिव जावेद अहमद अका जावेद पंप को गिरफ्तार किया है. इधर, हिंसा के […]

थाना खोड़ारे परिसर में फहराया गया तिरंगा।

Reading Time: < 1 minute गोण्डा। गोण्डा बभनजोत थाना खोड़ारे परिसर में थाना अध्यक्ष महेन्द्र कुमार सिंह द्वारा पूरे स्टाफ के साथ झंडारोहण किया गया साथ ही देश को सलामी देते हुये राष्ट्रगीत एवं अन्य कार्यक्रमों को आयोजन किया गया। गोण्डा 301 विधान सभा गौरा में रमा टेक्निकल विद्यालय में भी तिरंगा फहराया गया विद्यालय बंद होने के कारण केवल […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture